2022 Status and Shayari for 2022 WhatsApp and Facebook

Latest Status, Shayari Collection for You, This Month's Special Status for Whatsapp.

Wednesday, April 1, 2020

2022 Eid Mubarak Shayari & Status in Hindi, 2022 ईद मुबारक शायरी व स्टेटस हिंदी में

Eid Mubarak Shayari & Status in Hindi
"ना 'ज़ुबान' से, ना 'फ़ोन' से,
ना 'कार्ड' से, ना 'गिफ्ट' से,
ना 'पोस्ट' से, और ना 'मेल' से,
ईद मुबारक हो आपको एकदम 'दिल' से!"

"ज़िन्दगी तब बेहतर होती है जब हम खुश होते हैं,
लेकिन यकीन करो ज़िन्दगी तब बेहतरीन हो जाती है
जब हमारी वजह से सब खुश होते हैं ।
ईद मुबारक!"

"आज ईद, कल ईद, सुबह ईद,
और शाम को ईद खुदा करे कि
आप के हर लम्हें का नाम ईद हो!"

"ज़िन्दगी का हर पल खुशियों से कम न हो,
आप का हर दिन ईद के दिन से कम न हो,
ऐसा ईद का दिन आपको हमेशा नसीब हो,
जिसमें कोई दुःख और कोई गम न हो!
ईद मुबारक!ईद मुबारक!"

"जीवन में ""परेशानिया"" चाहे जितनी हों, "
"चिंता"" करने से और ज्यादा होती हैं, "
"खामोश"" होने से बिलकुल ""कम"",
""सब्र"" करने से ""खत्म"" हो जाती हैं,
तथा अल्लाह का ""शुक्र"" करने से "
"खुशियो"" मे बदल जाती हैं ।ईद मुबारक!"

"सुबह सुबह हो खुशियों का मेला
घर में ना हो लोगों का मेला,
ना हो दुनिया का झमेला,
पंछियो का हो मधुर संगीत,
और मौसम हो अलबेला मुबारक हो आपको ये
खोश्यों भरा तेहवार ईद का सवेरा सवेरा।"

"दीपक में अगर नूर ना होता
तन्हा दिल यूँ मजबूर ना होता
मैं आपको ""ईद मुबारक"" कहने जरूर आता
अगर आपका घर इतना दूर ना होता ।"

"सुबह सुबह ज़िन्दगी की शुरुआत होती है,
किसी अपने से हो जाये बात तो वो ख़ास होती है,
हँस कर प्यार से अपनों को ईद मुबारक बोलो तो
खुशियां अपने आप हमारे साथ होती हैं ।"

"रमदान में ना मिल सके
ईद में नज़रें ही मिला लूं
हाथ मिलाने से क्या होगा
सीधा गले से लगा लूं ।"

"आज खुदा की हम पर हो मेहरबानी कर दे
माफ़ हम लोगों की सारी नाफरमानी
ईद का दिन आज आओ मिलकर करें
यही वादा खुदा की ही राहों में मैं चलूं सदा
अपना है ये इरादा ।ईद मुबारक!"

"चाँद से रोशन हो रमजान तुम्हारा इबादत से
भरा हो रोज़ा तुम्हारा हर रोज़ा और नमाज़,
कबूल हो तुम्हारी यही अल्लाह से है, दुआ हमारी!
ईद मुबारक!"

"सूरज की किरणें तारों की बहार चाँद की चाँदनी
अपनों का प्यार हर घड़ी हो ख़ुशहाल
उसी तरह मुबारक हो आपको ईद का त्योंहार ।"

"मौसम-ए-बारिश की अब ज़रूरत नहीं,
मेरे शहर को या रब अब तेरी रहमतों में
भीग़ जाने के लिये 'माह-ए-रमज़ान' की बरक़तें ही काफ़ी है ।
ईद मुबारक!"

"ईद लेकर आती है ढेर सारी खुशियां ईद मिटा देती है,
इंसान में दूरियां ईद है,
ख़ुदा का एक नायाब तबारक और हम भी कहते हैं,
आपको ईद मुबारक ।"